चुनाव से पहले भोपाल में होगा भाजपा का महाकुंभ, 10 लाख कार्यकर्ताओं के आने की उम्मीद

भोपाल: आगामी 25 सितंबर को पंडित दीनदयाल उपाध्याय की 102वीं जयंती पर भारतीय जनता पार्टी एक साथ दो काम करने जा रही है। इस दिन पहला काम जो होना है वो मुख्यमंत्री की जन आशीर्वाद यात्रा के समापन और दूसरा चुनाव से पहले कार्यकर्ताओं का महाकुंभ। जिसमें प्रदेशभर से करीब दस लाख पार्टी कार्यकर्ताओं को भोपाल लाने की योजना है। महाकुंभ में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने आने की मंजूरी दे दी है। लेकिन प्रदेश भाजपा चाहती है कि प्रधानमंत्री मोदी भी महाकुंभ में आए। आयोजन राजधानी के जंबूरी मैदान पर होगा

     kajalsharma@bhopal

युवक पर जानलेवा हमला:

सतना: थाना सिटी कोतवाली अंतर्गत प्रकाश नाम के युवक पर तलवार डंडे से किया गया हमला घायल की हालत गंभीर कुछ दिन पूर्व बभंगवा में फायर करने वाले बाइक सवार आरोपियों ने 40 से अधिक बदमाशों के साथ मिलकर घटना को दिया अंजाम

            kajalsharma@bhopal

मुख्त्यारगंज क्षेत्र में रहने वाले एक मुस्लिम युवक को कोतवाली पुलिस ने पकड़ा:

भोपाल:   उसके कब्जे से एक लड़की भी मिलने की खबर । यूपी की है लड़की। गत वर्ष भी इसी परिवार का एक सदस्य एक लड़की को ले आया था अपने साथ। उस लड़की ने भी आज ही निगला जहरीला पदार्थ ,जिला अस्पताल में उपचार के लिए कराई गई है दाखिल। उधर यूपी की लड़की और उसे नाजायज तरीके से लाने और अपने साथ रखने वाले युवक को पुलिस ने बैठा रखा है कोतवाली में

                                                                                             kajalsharma@bhopal

कांग्रेस की बीएसपी से सीटों के बंटवारे को लेकर बातचीत अंतिम दौर में है:

भोपाल:        मध्यप्रदेश विधानसभा चुनावों के लिए कांग्रेस की बीएसपी से सीटों के बंटवारे को लेकर                           बातचीत अंतिम दौर में है। जल्द ही इस बारे में पूरी जानकारी दी जाएगी। 80 सीटों                                पर 10 से 12 सितंबर तक उम्मीदवार तय कर लिए जाएंगे: कमलनाथ

       kajalsharma@bhopal

पुलिस कर्मियों के खिलाफ दर्ज होगी FIR नही तो एसएसपी पर होगी कार्यवाही:

दिल्ली  :प्रेस काउंसिल ने राज्यसरकारों को चेताया…
पत्रकार नही है भीड़ का हिस्सा l पत्रकारों के साथ बढ़ती ज्यादती और पुलिस के अनुचित व्यवहार के चलते कई बार पत्रकार आजादी के साथ अपना काम नही कर पाते है. उसी को ध्यान में रखते हुए भारतीय प्रेस काउंसिल के अध्यक्ष मार्कण्डेय काटजू ने राज्य सरकारों को चेतावनी देते हुए निर्देश भी दिया है कि पुलिस आदि पत्रकारों के साथ बदसलूकी ना करे…।*

पत्रकार भीड़ का हिस्सा नही है…।

किसी स्थान पर हिंसा या बवाल होने की स्थिति में पत्रकारों को उनके काम करने में पुलिस व्यवधान नही पहुँचा सकती। पुलिस जैसे भीड़ को हटाती है वैसा व्यवहार पत्रकारों के साथ नही कर सकती।
ऐसा होने की स्थिति में बदसलूकी करने वाले पुलिसवालों या अधिकारियों के विरुद्ध आपराधिक मामला दर्ज किया जायेगा…।
काटजू ने कहाँ कि जिस तरह कोर्ट में एक अधिवक्ता अपने मुवक्किल का हत्या का केस लड़ता है पर वह हत्यारा नही हो जाता है। उसी प्रकार किसी सावर्जनिक स्थान पर पत्रकार अपना काम करते है पर वे भीड़ का हिस्सा नही होते। इस लिए पत्रकारों को उनके काम से रोकना मिडिया की स्वतंत्रता का हनन करना है !

सभी राज्यों को दिए निर्देश

प्रेस काउन्सिल ने देश के केबिनेट सचिव, गृह सचिव, सभी राज्यों के मुख्यमंत्री, मुख्य सचिवों व गृह सचिवों को इस सम्बन्ध में निर्देश भेजा है… और उसमे स्पष्ट कहा है कि पत्रकारों के साथ पुलिस या अर्द्ध सैनिक बलों की हिंसा बर्दाश्त नही की जायेगी…। सरकारे ये सुनिश्चित करे की पत्रकारों के साथ ऐसी कोई कार्यवाही कही न हो। पुलिस की पत्रकारों के साथ की गयी हिंसा मिडिया की स्वतन्त्रता के अधिकार का हनन माना जायेगा जो उसे संविधान की धारा 19 एक ए में दी गयी है। और इस संविधान की धारा के तहत बदसलूकी करने वाले पुलिसकर्मी या अधिकारी पर आपराधिक मामला दर्ज होगा

                                                 kajalsharma@bhopal